Thursday, August 18, 2022
HomeHollywoodपिता ने छीना इस पॉप सिंगर का सुकून, बोलीं-'मुझे मेरी आजादी दिलाओ,...

पिता ने छीना इस पॉप सिंगर का सुकून, बोलीं-‘मुझे मेरी आजादी दिलाओ, रोती रहती हूं, सो नहीं पाती’

मुंबई। अमेरिकी पॉप सिंगर ब्रिटनी स्‍पीयर्स और उनके पिता जेमी स्‍पीयर्स के बीच गार्जियनश‍िप (संरक्षण) को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। ब्रिटनी के पिता 2008 से ही सिंगर की पर्सनल लाइफ से लेकर उनके पैसों पर कानूनी अध‍िकार रखते हैं। पिछले 13 साल से गार्जियनशिप पर चल रहे विवाद को अब ब्रिटनी स्पीयर्स खत्म करने के मूड में हैं। इसी सिलसिले में ब्रिटनी ने विडियो लिंक के जरिए लॉस एंजिलिस के कोर्ट में करीब 20 मिनट का बयान दर्ज करवाया है।

जहां ब्रिटनी अपनी आजादी की मांग कर रही हैं। बुधवार को दिए गए बयान के दौरान ब्रिटनी इतनी इमोशनल हो गईं कि उनके आंसू छलक पड़े। उन्होंने इस कानून व्यवस्था को ट्रॉमा और डिप्रेस कर देने वाला बताया है। ब्रिटनी कहती हैं, मैं खुश नहीं हूं.. मैं सो नहीं पा रही हूं… बहुत गुस्से में हूं. यह बहुत आमनविय है.. मैं दिन रात रोती रहती हूं। यह अपमानजनक है। मैं बदलाव चाहती हूं और इसके लायक भी हूं।

ब्रिटनी के केस में भी उनके फाइनेंस से लेकर पर्सनल लाइफ से जुड़े ज्यादातर मामलों के फैसले की डोर उनके पिता जेमी के हाथों में हैं। हमेशा विवादों से घिरी रहीं ब्रिटनी को नशाली दवाओं के सेवन, मारपीट करने की वजह से उनके पिता को 2008 में ब्रिटनी के कंजरवेटर के रूप में नियुक्त किया गया था। उसके बाद से ही ब्रिटनी और उनके पिता के बीच विवादों का सिलसिला शुरू हो गया था। अमेरिका के एक नामी अखबार में ब्रिटनी ने 2014 में अपने पिता की दखलअंदाजी पर आपत्ति जता चुकी हैं।

ब्रिटनी के सपोर्ट में उनके कई फैंस सामने आए हैं। सोशल मीडिया पर भी ब्रिटनी के नाम पर लाखों ट्वीट्स किए गए हैं। कई हैशटैग क्रिएट किए गए, जिसमें से FreeBritney के नाम से चला हैशटैग काफी वायरल हो रहा है। इस पर ब्रिटनी स्पीयर्स का कहना है कि कंजरवेटरशिप बहुत बुरा है। मैं सो नहीं पाती, हर दिन रोती हूं, मुझे मेरे पिता के संरक्षण से आजादी चाहिए। कंजरवेटरशिप अमेरिका में संरक्षकता की एक कानूनी अवधारणा है, जहां कोर्ट द्वारा उनके प्रतिनिधियों का चुनाव किया जाता है। ये कानून वैसे लोगों के लिए है, जो मानसिक रूप से खुद की देखभाल करने में असमर्थ होते हैं। कंजरवेटरशिप में उस इंसान से जुड़ी कानूनी, आर्थिक और पर्सनल फैसले से जुड़े सभी अधिकार दिए जाते हैं।

 

 

 

 

RELATED ARTICLES

Most Popular