Friday, August 12, 2022
HomeReviewsGangubai Kathaiwadi : इमोशन से भरपूर बेहतरीन फिल्म है गंगूबाई काठियावाड़ी, एक...

Gangubai Kathaiwadi : इमोशन से भरपूर बेहतरीन फिल्म है गंगूबाई काठियावाड़ी, एक बार जरुर देखें 

Gangubai Kathaiwadi : आज सिनेमाघरों में संजय लीला भंसाली द्वारा निर्देंशित फिल्म गंगूबाई काठियावाड़ी (Gangubai Kathaiwadi) रिलीज हो चुकी है। समाज में अपने हक की लड़ाई लड़ने वाली एक महिला पर आधारित है फिल्म गंगूबाई की कहानी। फिल्म की कहानी कमाठीपुरा की गंगूबाई की जिदंगी पर है, जिसे मात्र 1,000 रुपये के लिये उसका प्रेमी कोठे पर बेच देता है।

Gangubai Kathaiwadi : आज सिनेमाघरों में संजय लीला भंसाली द्वारा निर्देंशित फिल्म गंगूबाई काठियावाड़ी (Gangubai Kathaiwadi) रिलीज हो चुकी है। समाज में अपने हक की लड़ाई लड़ने वाली एक महिला पर आधारित है फिल्म गंगूबाई की कहानी। फिल्म की कहानी कमाठीपुरा की गंगूबाई की जिदंगी पर है, जिसे मात्र 1,000 रुपये के लिये उसका प्रेमी कोठे पर बेच देता है।

गंगूबाई जिसका नाम होता है गंगा हरजीवन दास काठियावाड़ी जो गुजरात के काठियावाड़ी में पली बढ़ी होती है। उसके पिता बैरिस्टर रहते हैं। गंगा काफी अच्छे घर से ताल्लुक रखती है। लेकिन 16 साल की छोटी उम्र में वो अपने पिता के साथ काम करने वाले रामणिक नाम के शख्स के प्यार में पड़ जाती है। गंगा का सपना रहता है कि वो अभिनेत्री बने। 9वीं क्लास तक पढ़ी गंगा अपने अभिनेत्री बनने के सपने के साथ रामणिक के साथ घर से भागकर मुंबई आ जाती है।  रामणिक मुंबई में गंगा को लाकर कमाठीपुरा के कोठे में 1,000 रुपये में बेच देता है। जहां गंगा की जिंदगी नर्क बन जाती है। कुछ दिन अंधेरे कमरे में भूखी-प्यासी रहने के बाद उसे बाहर आना ही पड़ा। धंधे पर बैठने के बाद उसके पहले कस्टमर ने उसे नाम देता है गंगू।  जिदंगी मे गंगू को अलग-अलग तरह के लोग मिलते हैं। उसने अपने रेड लाइट एरिया की 4000 औरतों और उनके बच्चों के लिए जिंदगीभर लड़ाई लड़ी और जीती भी ।

इसके बाद गंगू की जिंदगी में एंट्री होती है डॉन करीम लाला की. करीम लाला को गंगूबाई अपना भाई मान लेती है और करीम लाला गंगू को अपनी बहन। करीम लाला के दम पर कमाठीपुरा पर गंगूबाई का राज होता है।  गंगूबाई सेक्स वर्कर्स को समाज में इज्जत दिलवाने और अपने कानूनी अधिकारों के लिए एक लंबी लड़ाई लड़ती है। इसके लिए वह देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू से भी जा मिलती है।

वहीं बात करें एक्टिंग की तो गंगूबाई का किरदार निभा रही आलिया भट्ट ने इस फिल्म के लिये बहुत मेहनत की है। ये उनकी एक्टिंग से साफ झलक रहा है। आलिया भट्ट की आवाज में एक बदलाव भी दिखा। रौब दिखाने के लिए आलिया ने जिस तरह से दमदार आवाज में डायलॉग डिलीवरी की है, वो कमाल है। आलिया के अलावा सीमा पाहवा, विजय राज और शांतनु मिश्रा और अन्य सह-कलाकारों का अभिनय भी जबरदस्त रहा है।

फिल्म की सिनेमेटोग्राफी, बैकग्राउंड स्कोर, म्यूजिक और डांस काफी बढ़िया है। फिल्म को फ्रेम दर फ्रेम खूबसूरती से बनाया गया है। इसमें पावरफुल मोमेंट्स जितने हैं, उतने ही इमोशनल पल भी है।

 

RELATED ARTICLES

Most Popular