Monday, August 15, 2022
HomeBollywoodहेमंत कुमार के वो सदाबहार गीत जिस पर खूब थिरकते हैं लोग,...

हेमंत कुमार के वो सदाबहार गीत जिस पर खूब थिरकते हैं लोग, ये हैं वो बेस्ट सॉन्ग

सुरों के बादशाह हेमंत कुमार मुखोपाध्याय एक प्रसिद्ध गायक होने के साथ-साथ एक संगीतकार और फिल्म निर्माता भी थे। आज सिंगर, म्यजिक कंपोजर और फिल्ममेकर हेमंत कुमार मुखोपाध्याय की 101वीं जयंती है। उन्होंने हिंदी फिल्मों में अनेक गीत गाए थे। उत्तर प्रदेश के बनारस में बंगाली परिवार में जन्में इस दिग्गज कलाकार को हेमंत मुखर्जी के नाम से भी पहचाना जाता है।

मुंबई। सुरों के बादशाह हेमंत कुमार मुखोपाध्याय एक प्रसिद्ध गायक होने के साथ-साथ एक संगीतकार और फिल्म निर्माता भी थे। आज सिंगर, म्यजिक कंपोजर और फिल्ममेकर हेमंत कुमार मुखोपाध्याय की 101वीं जयंती है। उन्होंने हिंदी फिल्मों में अनेक गीत गाए थे। उत्तर प्रदेश के बनारस में बंगाली परिवार में जन्में इस दिग्गज कलाकार को हेमंत मुखर्जी के नाम से भी पहचाना जाता है। अपनी आवाज को हेमंत हमेशा ऊपर वाले की देन बताया करते थे। उनकी आवाज बहुत ही मधुर थी।

हेमंत कुमार ने हिंदी और बंगाली सिनेमा को एक से एक बेहतरीन गाने दिए। हिंदी सिनेमा की बात करें तो उन्होंने ‘आओ बच्चों तुम्हें दिखाएं’, ‘है अपना दिल तो आवारा’, ‘बेकरार करके हमें यूं न जाइये’, ‘याद किया दिल ने’ जैसे कई हिट गाने गाए और उनका म्यूजिक भी दिया। बता दें कि बीसवीं सदी के शुरुआती दिनों में ही उनका परिवार कोलकाता आकर बस गया। हेमंत कुमार कोलकाता में ही पले-बढ़े और यहीं शिक्षा पाई। उन्होंने 1944 में बंगला फिल्म प्रिया बंगधाबी के लिए पहली बार रवींद्र संगीत रिकॉर्ड कराया।

कोलकाता में उनकी मुलाकात उनके गहरे दोस्त सुभाष मुखोपाध्याय से हुई जो बाद में लेखक बन गए। इंटरमीडिएट पास करने के बाद हेमंत कुमार ने यादवपुर विश्वविद्यालय में अभियांत्रिकी की पढ़ाई के लिए प्रवेश लिया। कुछ दिनों तक उन्होंने साहित्य में भी हाथ आजमाया और उनकी कई लघुकथाएं बंगाली पत्र-पत्रिकाओं में छपी। लेकिन तीस के दशक में उन्होंने स्वयं को संगीत के प्रति समर्पित कर दिया। अपने मित्र सुभाष मुखोपाध्याय के प्रभाव में आकर हेमंत कुमार ने 1933 में ऑल इंडिया रेडियो के लिए अपना पहला गीत रिकॉर्ड करवाया। हेमंत कुमार को बंगाली संगीतकार शैलेस दासगुप्ता से काफी प्रेरणा मिली। 1980 के दशक में टेलीविजन पर प्रसारित एक इंटरव्यू में हेमंत कुमार ने कहा कि उन्होंने उस्ताद फैय्याज खान से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली, लेकिन उस्ताद की मौत के बाद उनका ये क्रम टूट गया।

हेमंत कुमार की आवाज बहुत ही मधुर थी। हेमंत कुमार ने हिंदी और बंगाली सिनेमा को एक से एक बेहतरीन गाने दिए। हिंदी सिनेमा की बात करें तो उन्होंने, ‘है अपना दिल तो आवारा’, ‘बेकरार करके हमें यूं न जाइये’, ‘याद किया दिल ने’, ‘आओ बच्चों तुम्हें दिखाएं’ जैसे कई हिट गाने गाए और उनका म्यूजिक भी दिया। आज जन्मदिन पर सुनते हैं उनके कुछ बेहतरीन गाने।

 

RELATED ARTICLES

Most Popular