Sunday, July 3, 2022
HomeBollywoodDharmendra:जावेद अख्तर पर जब चिल्लाने लगे थे धर्मेंद्र (Dharmendra)

Dharmendra:जावेद अख्तर पर जब चिल्लाने लगे थे धर्मेंद्र (Dharmendra)

Dharmendra:बॉलीवुड के सदाबहार अभिनेता धर्मेंद्र (Dharmendra) अपने जमाने के मोस्ट हैंडसम एक्टर थे। उनके लुक्स पर लड़कियां अपनी जान लुटाती थीं। धर्मेंद्र (Dharmendra) बहुत ही खुशमिजाजी इंसान हैं। वो सेट पर हमेशा मस्ती के मूड में रहते थे। धर्मेंद्र (Dharmendra) ने सिनेमाजगत को कई हिट-सुपरहिट फिल्में दी। धरम पॉजी यूं तो बहुत मजाकी अंदाज वाले थे लेकिन जब उन्हें गुस्सा आता था तो वो फिर किसी की नहीं सुनते थे। आज हम आपको उस किस्से के बारें में बताने जा रहे हैं जब धर्मेंद्र (Dharmendra) जावेद अख्तर पर चिल्लाने लगे थे।

Dharmendra:बॉलीवुड के सदाबहार अभिनेता धर्मेंद्र (Dharmendra) अपने जमाने के मोस्ट हैंडसम एक्टर थे। उनके लुक्स पर लड़कियां अपनी जान लुटाती थीं। धर्मेंद्र (Dharmendra) बहुत ही खुशमिजाजी इंसान हैं। वो सेट पर हमेशा मस्ती के मूड में रहते थे। धर्मेंद्र (Dharmendra) ने सिनेमाजगत को कई हिट-सुपरहिट फिल्में दी। धरम पॉजी यूं तो बहुत मजाकी अंदाज वाले थे लेकिन जब उन्हें गुस्सा आता था तो वो फिर किसी की नहीं सुनते थे। आज हम आपको उस किस्से के बारें में बताने जा रहे हैं जब धर्मेंद्र (Dharmendra) जावेद अख्तर पर चिल्लाने लगे थे।

उस वक्त जावेद अख्तर बृज सदाना के असिस्टेंट थे। उस दौरान एक फिल्म बन रही थी उसका नाम था यकींन। देवेंद्र वर्मा फिल्म के प्रोडेक्शन में बन रही इस फिल्म के हीरो थे धर्मेंद्र (Dharmendra)। फिल्म में धर्मेंद्र (Dharmendra) का डबल रोल था। एक रोल में जो फिल्म का पॉजिटिव हीरो होता है जिसका नाम होता है राजेश। वहीं दूसरे रोल में निगेटिव रोल होता है, जिसका नाम था गारसान।

खलनायक के रोल के लिए धर्मेंद्र (Dharmendra) को आंखों में नीले रंग के लेंस लगाना पड़ता था। जिसके लिए धर्मेंद्र को शूटिंग में कॉन्टेक्ट लेंस लगाने पड़ते थे। फिल्म के एक सीन की तैयारी चल रही थी। धर्मेंद्र (Dharmendra) ने डायलॉग ले लिए आवाज लगाई, जिसकी जिम्मेदारी जावेद अख्तर को सौपी गई थी। जावेद साहब धरम पॉजी के पास पहुंचे, और उन्होंने उस सीन की स्क्रीप्ट को धरम पॉजी को थमा दिया।

धरम पॉजी ने एक सीन की स्क्रीप्ट को एक नजर देखा। लेकिन उन्हें वो समझ में नहीं आया तो गुस्से में कहा यार सही सीन देख कर दिया करो। असल में हुआ ये कि जावेद साहब ने जल्दी-जल्दी में उन्हें गलत सीन का पेज खोलकर दे दिया था। जावेद अख्तर ने तुरंत अपनी गलती को सुधारा और वहां से चले गए।

बाद में धरम पॉजी ने जावेद अख्तर को दोबारा बुलाया। वह डरे हुए धरम पॉजी के मेकरुम में पहुंचे। धरम पॉजी ने फिर जावेद अख्तर से कहा, मैंने तुम से गलत तरीके से बात कर दी थी इसलिए मुझे बुरा लग रहा है। मेरी आखों में कॉन्टेक्ट लेंस होने के कारण बहुत परेशानी होती है, इसी के चलते में तुम पर चिल्ला पड़ा था। मुझे माफ कर दो।

 

RELATED ARTICLES

Most Popular